• December 2016
    M T W T F S S
    « Sep    
     1234
    567891011
    12131415161718
    19202122232425
    262728293031  
  • Omshivam

  • Gita press

    The institution's main objective is to promote and spread the principles of Sanatana Dharma, the Hindu religion among the general public by publishing Gita, Ramayana, Upanishads, Puranas, Discourses of eminent Saints and other character-building books & magazines and marketing them at highly subsidised prices.   The institution strives for the betterment of life and the well-being of all. It aims to promote the art of living as propounded in the Gita for peace & happiness and the ultimate upliftment of mankind. The founder, Brahmalina Shri Jayadayalji Goyandka, was a staunch devotee and an exalted soul. He was much given to the Gita as the panacea for mankind's plight and began publishing it and other Hindu scriptures to spread good intent and good thought amongst all.
  • Sarvesam Swastirr bhavatu
    Sarvesam Santirr bhavatu
    Sarvesam Poornam bhavatu
    Sarvesam Mangalambhavatu
    Sarve atra sukhe naha santu
    Sarve santu niraa maya ahaa
    Sarve bhadra ni pash yan tu
    Ma kaschit dukha mapnuyat
    Asato maa sad -ga-maya a
    Tamaso maa jyotirr ga maya
    Mrityor ma amritam ga maya
    Om Shanti Shanti Shanti

  • Categories

  • Blog Stats

    • 2,476,153 views
  • Mann ki Baat

  • Guru Brahma Guru Vishnu
    Guru Devo Maheshwara
    Guru Sakshat ParamBrahma
    Tasmai Shri Gurave Namah

    Dhyanamoolam Guru Murti
    Pujamoolam Guru Padam
    Mantra Moolam Guru Vakyam
    Moksha Moolam Guru Kripa

    Akhanda Mandalakaram
    Vyaptam Yena Characharam
    Tat Padam Darshitam Yena
    Tasmai Shri Gurave Namaha

    Shri Guru Gita

  • श्रीमद भगवद गीता

    Sreemad Bhagvad Gita with Mahathmya Shloka Anuvaad from Ashram

  • Hon Donald J Trump The President of United States of America

  • Ashram fb page

    A simple & kind request
    please like the official ashram fb page & support Sanatana Hindu Dharma

  • Ashram offical facebook page

  • Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

    Join 227 other followers

  • Srimad Bhagvatham

    Srimad Bhagvatham

  • Maha Shiva RatriFebruary 27th, 2014
    आपके जीवन में शिव ही शिव हो
  • omshivoham

  • fb

    Requests, Thoughts
    & Suggestions
    express ur feelings
    send messages to the facebook account
    will try to do as possible
    thanku hariom

  • Swamy the True Indian

    Sri Subramanian swamy

  • Sunder Kand with Hanuman Chalisa

  • RSS

    The Brave heart Army

  • Spiritual Hindu Calender

    Ashram Calender

  • Categories

  • Member of The Internet Defense League

  • e Books

    free ebooks from Ashram

  • RSS Shri Devi Mahathmyam

    • Navaratri & Navadurga
      What is Navratri ? " Navratri " or "Navaratri " literally means "nine nights." Navratri is celebrated twice a year, once at the beginning of the New Samvatsar (Hindu New year) in Summers and again at the onset of winter. Navratri or Navratra are therefore known as Chaitra Navratra and Shaardeya Navratra on the basis of their occ […]
      omshivashakti
    • The Goddess of Kudajaadri : Sri Mookambika
      The Legend JagatGuru Sri Adi shankara Acharaya & the Devi Sri Mookambika
      omshivashakti
    • The Story of Mahabharatha
      The Mahabharatha, is the greatest, longest and one of the two major Sanskrit epics of ancient India, the other being the Ramayana. With more than 74,000 verses, plus long prose passages, or some 1.8 million words in total, it is one of the longest epic poems in the world. This wonderful Grantha (Sacred book) was composed by Bhagvan Sri Veda Vyasa (Krishna Dv […]
      omshivashakti
    • “Ashirvaad” Blessing
      Mantra Diksha Blessing Like The Sun God, Like The Rainy Clouds , Like The Mother Earth  Blessing for All Mantra Dikshaa by vishwa Guru Param Pujya Sant Shri AsaramJi BapuJi
      omshivashakti
    • WONDER Cure
      Solution to all problems from Param pujya Sant Shri Asaramji Bapu Wonder Cure to many diseases and health tips
      omshivashakti
    • E books from Ashram
      पूज्य बापू के आशीर्वचन इस छोटी सी पुस्तिका में वे रत्न भरे हुए हैं जो जीवन को चिन्मय बना दें। तुम अपने सारे विश्व में व्याप्त अनुभव करो। इन विचार रत्नों को बार-बार विचारो। एकांत में शांत वातावरण में इन वचनों को दोहराओ। और....अपना खोया हुआ खजाना अवश्य अवश्य प्राप्त कर सकोगे इसमें तनिक भी संदेह नहीं है। करो हिम्मत......! मारो छलांग.....! कब तक गिड़गिड़ाते रहोग […]
      omshivashakti
    • Shri Adi Shankaracharya’s Kanaka Dhara Stotram
      Bhagvan Shri Adi Sankara was one of the greatest saints of his time.He was born in a Brahmin family in Kerala. After brahmopadesa, as is usual during those times, Bramhmachari were asked to beg alms for his lunch. One day when little Adi Shankara went to a Brahmin house, the lady of the house was so poor that she did not have anything to give him. She search […]
      omshivashakti
    • Sreemadh Devi Bhagvatham
      The Srimad Devi Bhagavatam, also known as Devi Purana, was composed into 12 chapters, containing 18000 verses by the great Veda Vyasa. Though classified as an upa-purana it is the only purana Vedavyasa called "Maha Purana" meaning the great purana.
      omshivashakti
    • Shri Devi Mahathmyam
      Sri Devi Mahathmyam is one of the most enduring and popular Hindu scriptures of all times, filled with the stories and the exploits of the Mother Goddess, as she assumes various forms and avatars, from time to time to vanquish evil and restore righteousness and goodness in the world. The seven hundred verses of Devi Mahathmyam form one of the cornerstones of […]
      omshivashakti
    • Shri Narendra Modi Ji
      A True Yogi Of Sreemadh Bhagvad Gita
      omshivashakti
  • Ashram Ayurveda

    Download Books on Ayurveda Arogyanidhi 1 & 2 from Ashram

  • Swastya Sanjeevni

  • Shri Vishnu Sahastranama

  • Shubh Naam

    Hindu Baby Names

  • Bhajan & Sankirtan

    Download Bhajans & Sankirtan mp3

  • Latest Posting

    (1 )

    (2)

    (3)

  • Holy Spiritual Divine

    Spiritual & Divine Experiences of Disicples

  • Vasthu Shastra from Ashram.org

  • RSS Jai Siya Ram

    • Ramayan
      Om Namaha ShivayaEka Sloki RamayanAadau Rama thapo vananu gamanam, Hathwa mrugam kanchanam,Vaidehi haranam, jatayu maranam, Sugreeva sambhashanam,Bali nigrahanam, samudhra tharanam, Lanka pureem dahanam,Paschad Ravana Kumbha karna madanam, Ethat ithi Ramayanam Author -Shri C.RajaGopalachariRamayanaTo the north of the Ganga was the great kingdom Kosala, made […]
      omshriram
    • Uttar Ramayan
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"Shri Ram's Rajya Abhiskek01-02Hanumanji is blessed by Sita Mata with the honor to be Shri Ram's devotee always.Brahma sends Narad to Valmiki.01-03Story of Garuda & KakbhushandiGarud goes to Lord Shiva to know about Shri Ram and then goes to meet Bhushandi - the CrowBhushandi - the Crow narrates Shri Ra […]
      omshriram
    • Ramayan Series Page 7
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"Episode 61:Ravan sends his men to Kumbhakaran's palace to wake him up from his deep sleep. They take mountains of food for him and try to awaken him with their shouts, drums and trumpets. At last, Kumbhakaran gets up and has his meal. He is told about the war and the humiliation Ravan is suffering. Ravan goes t […]
      omshriram
    • VED STUTI
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"VED STUTIUttarkaand – Doha 13 CHHANDJai sagun nirgun roop roop anoop bhoop siromaney | Daskandharaadi prachand nisichar prabal khal bhuj bala haney || Avataar nar sansaar bhaar bibhanji daarun dukh dahey | Jai pranatpaal dayaal prabhu sanjukt sakti namaamahey || Tav bisham maayaa bas suraasur naag nar aga jaga harey […]
      omshriram
    • Ramayan Series Page 6
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"Ramayan Episode 51:Ravan discusses the matter with his courtiers and sends Sukh to seduce Sugriv from his loyalty to Shri Ram. Sukh meets Sugriv and says: "You are a king and Ravan is another. Earn his friendship instead of risking your life for helping a disinherited prince." Sugriv sends him back, saying […]
      omshriram
    • Ramayan Series Page 5
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"Ramayan Episode 41:Lakshman enters Kishikindha in a fury. Angad goes and informs Hanuman who requests Tara to go and allay Lakshman's wrath. Tara is able to take away the edge of Lakshman's anger and Hanuman tells Lakshman that Sugriv has already issued orders for mobilising the warriors. Sugriv apologizes […]
      omshriram
    • Ramayan Series Page 4
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"Ramayan Episode 31: Ravan decides to kidnap Sita Mareech reluctantly becomes golden deer Shri Ram, at Sitas behest, goes after the deer 31.131.231.331.4Episode 32: Mareech mimics Shri Rams voice & calls Lakshman Sita compels Lakshman to go Ravan kidnaps Sita .Shri Ram & Lakshman are upset32.132.232.332.4Epis […]
      omshriram
    • Uttar Ramayan Last Part
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"Valmiki advises her to give up attachment which binds mortals to Earth. King Janak visits Ayodhya.02-11King Janak's conversation with Shri Ram. He shows Ram the letter Sita left him and tells Ram that he is proud to have a daughter like Sita.02-12Janak asks Ram to visit Mithila because Devi Sunayana is unwell.G […]
      omshriram
    • Sri Hanuman Aarti
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"Aartii ki Hanumana lalaa kiiAartii ki Hanumana lalaa kii, dushta-dalana Ragunatha kalaa kee.Jaakay bala se giriwara kaapay, roga dosha jaakay nikata na jhaakee.Anjani putra mahaa bala daayee, santana kay prabhu sadaa sahaayee.Dai biiraa Ragunaatha pataayee, Lankaa jaari siiya sudhi laaye.Lanka sau kota samudra sii k […]
      omshriram
    • Bajraang Baan
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"BAJRANG BAAN - A PRAYER TO HANUMAN JI Nishchay Prema Prateet-tay, Vinay Karain Sanmaan,Tayhi-Kay Karaja Sakala Shubha, Sidhi Karain Hanuman Jai Hanumanta Santa Hitakaari, Suna Liijay Prabhu Araja hamariJana kay kaaja vilambana keejay, Aatura dawrii maha Sukha deejayJaisay kooda sindhur kay paara, Sursa badana paithi […]
      omshriram
    • Sankat Mochan Hanuman Ashtak
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"A PRAYER TO HANUMANJI IN EIGHT VERSESBaala samai ravi bhaksha liyo, Taba teenahu loka bhayo andhiyaaroTaahi so traasa bhayo jaga-ko, Yaha sankata kaahu so jaata na taaroDewan-aani kari binatee, Taba chaari diyo ravi kashta niwaaroKo nahi jaanata hai jaga may, kapi sankat mochan naam tihaaroBaali ki traasa kapeesa ba […]
      omshriram
    • Rishi Prasad "Guru Nishtha" Guru Bhakt Sandeepak ki Katha
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam" ऋषि प्रसाद अध्यात्मिक मासिक पत्रिका संत श्री आसरामजी आश्रमभगवान शिवजी ने पार्वती से कहा हैःआकल्पजन्मकोटीनां यज्ञव्रततपः क्रियाः।ताः सर्वाः सफला देवि गुरुसंतोषमात्रतः।।'हे देवी ! कल्पपर्यन्त के, करोड़ों जन्मों के यज्ञ, व्रत, तप और शास्त्रोक्त क्रियाएँ – ये सब गुरुदेव के संतोषमात्र से सफल हो जाते हैं।'शिष्य […]
      omshriram
    • Manas Guru Vandana
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"MANAS GURU VANDANABaalkaand – Doha 1 CHOPAIBandau guru pad paduma paraaga | Suruchi subas saras anuraaga ||Amiya murimaya churan charu | Saman sakal bhav ruj parivaru ||Sukruti sambhu tan bimal bibhuti | Manjul mangal mod prasuti ||Jana mana manju mukur mal harni | Kiye tilak gun gan bas karni ||Shri guru pad nakh m […]
      omshriram
    • Shiva Taandav Stotra
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"II RAM IISHIV TAANDAV STOTRAJatata veegalajjal pravaahpaavit sthaleyGaleva lambya lambitaam bhujang tung maalikaam |Damag damag damag damanninaad vahum vavrymChakaar chand taandavam tanotu nah shivam shivam || 1 ||Jataa kataah sambhram bhramanni limpa nirjhariVilole veechi vallari viraaj maan murdhani |Dhagad dhagad […]
      omshriram
    • Nirvaana Ashtakam
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"NIRVAAN ASHTAKAMMano buddhya hankaar chittaani naahamNa cha shrotra jihvey na cha ghraan netrey |Na cha vyom bhoomir na tejo na vaayuChidaanand roopah shivoham shivoham || 1 ||Na cha praan sangyo na vai panch vaayurNa vaa sapta dhaatur na vaa panch koshah |Na vaak paani paadau na chopasth paayuChidaanand roopah shiv […]
      omshriram
    • Shiv Mahimna Stotra
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam" II RAM II Shree Ganeshaaya NamahSHIV MAHIMNAH STOTRAMPushpadanta Uvaacha Mahimnah paaram te paramvidusho yadyasadrishiStutirbrahmaadeenaamapi tadavasannaastvayi girah|Athaavaachyah sarvah svamatiparinaamaavadhi grinanMamaapyesha stotre har nirapavaadah parikarah || 1 ||Ateetah panthaanam tav cha mahimaa vaangmanasa […]
      omshriram
    • Ramayan Series Page 3
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"RamayanEpisode 21: In Nanihal, Bharath's premonition saddens him Bharath & Shatrughan return to Ayodhya On hearing about their fathers death, they are deeply shocked Bharath develops deep hatred towards his mother Kaikayee and disowns her21.121.221.321.4Episode 22: Bharath performs King Dasharath's las […]
      omshriram
    • Pancha Mukha Anjaneya Kavacham
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam" [Armour of Hanuman with Five Faces]Translated by P. R. Ramachander Sri Hanuman Ji assumed this form to kill Mahiravana, a powerful rakshasa black-magician and practitioner of the dark arts during the Ramayana war. Mahiravana had taken Lord Rama and Lakshmana captive, and the only way to kill him was to extinguish f […]
      omshriram
    • The Legend of Prince Ram
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam" Jai Siya Ram JaiSiyaRam
      omshriram
    • Ramayan Series Page 2
      "Namo nama Shri Guru padukabhyam"Episode 13: Celebrations mark the proclamation of Shri Ram as heir to the throne Manthra provokes Kaikayee Kaikayee gets into a rage 13.113.213.313.4Episode 14: King Dashrath also gets into an angry state of mind Kaikayee requests for two wishes King Dasharath relents to his promise Bharath is hailed as future king […]
      omshriram
  • RSS Krishnam Vande Jagat Guru

    • Bharata the Spiritual Guru of the World
      Bharat the Spiritual Guru of the World In this context The following verse (shloka) from the Mahabharat (18.5.46) is important. अष्टादश पुराणानि धर्मशास्त्राणि सर्वशः । वेदाः साङ्गास्तथैकत्र भारतं चैकतः स्थितम् ॥ Meaning : The eighteen Purans, all the scriptures (Smrutis) and the Vedas are on one side and Bharat (ancient India) on the other. (So great is the […]
    • Suprabhatham
      "kausalya supraja rama!purva sandhya pravartate, uthishta! narasardula! kartavyam daivam ahnikam "Sri Rama! Kausalya's endearing son! Wake up, dear! You have to do your day-to-day duties do wake up please. Continue reading →
    • Shri Hari Stotram
      The one who reads with peace, This octet on Hari, Which is the destroyer of sorrow, Would definitely reach the world of Vishnu, Which is always without sorrow, And he would never undergo sorrow ever. Continue reading →
    • All About HINDUISM
      O Thou Invisible One! O Adorable One! O Supreme! Thou permeatest and penetratest this vast universe from the unlimited space down to the tiny blade of grass at my feet. Thou art the basis for all these names and forms. Thou art the apple of my eye, the Prema of my heart, the very Life of my life, the very Soul of my soul, the Illuminator of my intellect and […]
    • The Supreme Sadhana
      Everything is verily a manifestation of God; where then do differences, delusion,misfortune and misery exist? They exist in the „seeing‟ without right knowledge. For as you see,so is the world. Continue reading →
    • Shri Krishna Janma ashtami
      श्रीकृष्ण जन्माष्टमी आपका आत्मिक सुख जगाने का, आध्यात्मिक बल जगाने का पर्व है। जीव को श्रीकृष्ण-तत्त्व में सराबोर करने का त्यौहार है। तुम्हारा सुषुप्त प्रेम जगाने की दिव्य रात्रि है। श्रीकृष्ण का जीवन सर्वांगसंपूर्ण जीवन है। उनकी हर लीला कुछ नयी प्रेरणा देने वाली है। उनकी जीवन-लीलाओं का वास्तविक रहस्य तो श्रीकृष्ण तत्त्व का आत्मरूप से अनुभव किये हुए महापुरूष […]
    • Vedic Astrology: Jyothish Light of Knowledge
      INTRODUCTION Of Indian Jyothish or Hindu Jyothish or Vedic Jyothish. Vedas are the oldest, the most authentic and the most sacred scriptures to understand the mysteries of nature Vedas are oldest books in the library of the world.' The date when did the Sourya Mandal came into existence is written in " BramandPuraan ". Continue reading → […]
    • Bhagvaan ki Kripa
      धनभागी हैं वे, जो संत-दर्शन की महत्ता जानते हैं, उनके दर्शन-सत्संग का लाभ लेते हैं, उनके द्वार पर जा पाते हैं, उनकी सेवा कर पाते हैं और धन्य है यह भारतभूमि, जहाँ ऐसे आत्मारामी संत अवतरित होते रहते हैं। Continue reading → […]
    • Rudraksha : The Divine Gem
      The terms Rudraksha literally means the "Eyes" of Shiva and is so named in His benevolence. Shiva Purana describe Rudraksha's origin as Lord Shiva's tears. He had been meditating for many years for the welfare of all creatures. On opening the eyes, hot drops of tears rolled down and the mother earth gave birth to Rudraksha trees. Continue […]
    • Navagraha Stotra Mala For Daily Recital
      Navagraha Stotra Mala For Daily Recital for the blessing of all Nine Grahas Continue reading →
  • The free & open productivity suite

  • Google Desktop Sidebar with gadgets: Free and installs in seconds , Desktop search • Search your computer as easily as you search the web with Google • Find and launch applications and files with just a few keystrokes Sidebar with gadgets

  • Get a fast, free web browser

  • Adobe PDF Reader

  • Jai Guru Dev

    This Blog is an Humble attempt to spread the Divine Message of Pujjya BapuJi & Dedicated at the Lotus feets SHRI CHARANKAMAL Of PARAM PUJYA GURUJI SANT SHRI ASARAM JI BAPU VishwaGuru Of the Age.

    The essence of Bharata lies in Her culture of Self-realization. ParamAtman is not seen as something apart, but as our very essence, the one True Self that resides in the heart of us all. Raising ourselves from ordinary individuals to the heights of Supreme Consciousness is only possible with the guidance of one who is already in that transcendent state. Such a one is called a Satguru, a True Yogi, as in one who has gained mastery over the mind, one who is beyond the mind.

    From ancient times up to the present day, an unbroken succession of Self-realized Saints have incarnated in the Land of Yogis & Saints Bharata to lead seekers of Truth to the ultimate reality.

    Yada Yada hee Dharmasya glaneer bhavati Bharat
    Abhyusthanam Adharmasya Tadaatmanam Sreejamyaham
    Paritranaaya Sadhunaam Vinaashaya cha Dushkritaam
    Dharma Sansthapna arthaya Sambhavami Yuge Yuge
    Sreemadh Bhagvad Gita 4.7 & 8

  • 100 % Safe website

  • Protected by Copyscape Online Infringement Detector
  • Railway Time Schedule

  • ThankU

    Welcome To omshivam.wordpress.com

Mantra Vigyaan Aur Mantra Sadhana

from Mantra Vigyan & Mantra Jaap Mahima
by
Mantra Drushtaa BrahmaRishi Yogeshwar
Vishwa Guru Param Pujya Sant Shri AsaramJi Bapu
http://www.ashram.org

॥ ॐ गं गणपतये नमः ॥
॥ ॐ श्री सरस्वत्यै नमः ॥
॥ ॐ श्री गुरुभ्यो नमः ॥
The Magnificence of Mantras

Even in this present age of materialistic life Mantra-Shakti can prove to be more powerful than the Yantra-Shakti. Mantra is a divine instrument with the rare potential of arousing our dormant consciousness. Thus it helps develop our latent powers and brings our original greatness to the fore. The parents give birth merely to our physical body whereas the True Brahmanishtha Sadgurus, the personages established in their True Self, give birth to our Chinmay Vapoo through Mantra-Diksha. Man can attain greatness by developing his dormant powers through Mantra. The regular japa of a mantra reduces restlessness of the mind, brings restraint in life; and works wonders in developing the concentration and memory. A Mantra has different effects on different energy centres of the body. Many Great personages like Bhagvan Sri Adi ShankaraAcharya ,Mahavir, Buddha, Sant Shri Tulsidas, Samarth Ramdas, Ramkrishna Paramhansa, Swami Vivekanand,Swami Ramtirtha, Pujyapaad Swami Sri Lilashahji Maharaj, Sri Raman Maharishi etc. have attained respect and reverence all around the world through their awareness of the True glory of Mantra.

प्रातः स्मरणीय परम पूज्य संत श्री आसारामजी बापू के सत्संग प्रवचन
भगवन्नाम जप-महिमा

निवेदन
भगवान का नाम क्या नहीं कर सकता? भगवान का मंगलकारी नाम दुःखियों का दुःख मिटा सकता है, रोगियों के रोग मिटा सकता है, पापियों के पाप हर लेता, अभक्त को भक्त बना सकता है, मुर्दे में प्राणों का संचार कर सकता है।
भगवन्नाम-जप से क्या फायदा होता है? कितना फायदा होता है? इसका पूरा बयान करने वाला कोई वक्ता पैदा ही नहीं हुआ और न होगा।
नारदजी पिछले जन्म में विद्याहीन, जातिहीन, बलहीन दासीपुत्र थे। साधुसंग और भगवन्नाम-जप के प्रभाव से वे आगे चलकर देवर्षि नारद बन गये। साधुसंग और भगवन्नाम-जप के प्रभाव से ही कीड़े में से मैत्रेय ऋषि बन गये। परंतु भगवन्नाम की इतनी ही महिमा नहीं है। जीव से ब्रह्म बन जाय इतनी भी नहीं, भगवन्नाम व मंत्रजाप की महिमा तो लाबयान है।
ऐसे लाबयान भगवन्नाम व मंत्रजप की महिमा सर्वसाधारण लोगों तक पहुँचाने के लिए पूज्यश्री की अमृतवाणी से संकलित प्रवचनों का यह संग्रह लोकार्पण करते हुए हमें हार्दिक प्रसन्नता हो रही है।
यदि इसमें कहीं कोई त्रुटि रह गयी हो तो सुविज्ञ पाठक हमें सूचित करने की कृपा करें। आपके नेक सुझाव के लिए भी हम आभारी रहेंगे।
श्री योग वेदान्ती सेवा समिति
अमदावाद आश्रम।

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

गुरुमंत्रो मुखे यस्य तस्य सिद्धयन्ति नान्यथा।
दीक्षया सर्वकर्माणि सिद्धयन्ति गुरुपुत्रके।।
जिसके मुख में गुरुमंत्र है उसके सब कर्म सिद्ध होते हैं, दूसरे के नहीं। दीक्षा के कारण शिष्य के सर्व कार्य सिद्ध हो जाते हैं।

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐ
भगवन्नाम की महिमा
शास्त्र में आता हैः

देवाधीनं जगत्सर्वं मंत्राधीनाश्च देवताः।

‘सारा जगत भगवान के अधीन है और भगवान मंत्र के अधीन हैं।”

संत चरनदासजी महाराज ने बहुत ऊँची बात कही हैः
श्वास श्वास सुमिरन करो यह उपाय अति नेक।

संत तुलसीदास जी ने कहा हैः
बिबसहुँ जासु नाम नर कहहीं। जनम अनेक रचित अध दहहीं।।
(श्रीरामचरित. बा.का. 118.2)
‘जो विवश होकर भी नाम-जप करते हैं उनके अनेक जन्मों के पापों का दहन हो जाता है।’
कोई डंडा मारकर, विवश करके भी भगवन्नाम-जप कराये तो भी अनेक जन्मों के पापों का दहन होता है तो जो प्रीतिपूर्वक हरि का नाम जपते-जपते हरि का ध्यान करते हैं उनके सौभाग्य का क्या कहना !

जबहिं नाम हृदय धरयो, भयो पाप को नास।
जैसे चिंनगी आग की, पड़ी पुराने घास।।

भगवन्नाम की बड़ी भारी महिमा है।

ॐ शब्द में सारे ब्रह्मांड सूत्रमणियों के समान ओतप्रोत हैं। जैसे, मोती सूत के धागे में पिरोये हुए हों ऐसे ही ॐसहित अथवा बीजमंत्रसहित जो गुरुमंत्र है उसमें ‘सर्वव्यापिनी शक्ति’ होती है।
इस शक्ति का पूरा फायदा उठाने केके इच्छुक साधक को दृढ़ इच्छाशक्ति से जप करना चाहिए। मंत्र में अडिग आस्था रखनी चाहिए। एकांतवास का अभ्यास करना चाहिए। व्यर्थ का विलास, व्यर्थ की चेष्टा और व्यर्थ का चटोरापन छोड़ देना चाहिए। व्यर्थ का जनसंपर्क कम कर देना चाहिए।
जो अपना कल्याण इसी जन्म में करना चाहता हो, अपने पिया परमात्मा से इसी जन्म में मिलना चाहता हो उसे संयम-नियम और शरीर के सामर्थ्य के अनुरूप 15 दिन में एक बार एकादशी का व्रत करना चाहिए। सात्त्विक भोजन करना चाहिए। श्रृंगार और विलासिता को दूर से ही त्याग देना चाहिए। हो सके तो भूमि पर शयन करना चाहिए, नहीं तो पलंग पर भी गद्दे आदि कम हों – ऐसे विलासितारहित बिस्तर पर शयन करना चाहिए।
साधक को कटु भाषण नहीं करना चाहिए। वाणी मधुमय हो, शत्रु के प्रति भी गाली-गलौच नहीं करे तो अच्छा है। दूसरों को टोटे चबवाने की अपेक्षा खीर-खाँड खिलाने की भावना रखनी चाहिए। किसी वस्तु-व्यक्ति के प्रति राग-द्वेष को गहरा नहीं उतरने देना चाहिए। कोई व्यक्ति भले थोड़ा ऐसा-वैसा है तो उससे सावधान होकर व्यवहार कर ले परंतु गहराई में द्वेषबुद्धि न रखे।
साधक को चाहिए कि निरंतर जप करे। सतत भगवन्नाम-जप और भगवच्चिंतन विशेष हितकारी है। मनोविकारों का दमन करने में, विघ्नों का शमन करने में और दिव्य 15 शक्तियाँ जगाने में मंत्र भगवान गजब की सहायता करते हैं।
बार-बार भगवन्नाम-जप करने से एक प्रकार का भगवदीय रस, भगवदीय आनंद और भगवदीय अमृत प्रकट होने लगता है। जप से उत्पन्न भगवदीय आभा आपके पाँचों शरीरों (अन्नमय, प्राणमय, मनोमय, विज्ञानमय और आनंदमय) को तो शुद्ध रखती ही है, साथ ही आपकी अंतरात्मा को भी तृप्त करती है।
बारं बार बार प्रभु जपीऐ।
पी अंम्रितु इहु मनु तनु ध्रपीऐ।।
नाम रतनु जिनि गुरमुखि पाइआ।
तिसु किछु अवरु नाही द्रिसटाइआ।।
जिन गुरुमुखों ने, भाग्यशालियों ने, पुण्यात्माओं ने सदगुरु के द्वारा भगवन्नाम पाया है। उनका चित्त देर-सवेर परमात्मसुख से तृप्त होने लगता है। फिर उनको दुनिया की कोई चीज-वस्तु आकर्षित करके अंधा नहीं कर सकती। फिर वे किसी भी चीज-वस्तु से प्रभावित होकर अपना हौसला नहीं खोयेंगे। उनका हौंसला बुलंद होता जायेगा। वे ज्यों-ज्यों जप करते जायेंगे, सदगुरु की आज्ञाओं का पालन करते जायेंगे त्यों-त्यों उनके हृदय में आत्म-अमृत उभरता जायेगा…..
शरीर छूटने के बाद भी जीवात्मा के साथ नाम का संग रहता ही है। नामजप करने वाले का देवता लोग भी स्वागत करते हैं। इतनी महिमा है भगवन्नाम जप की !
मंत्र के पाँच अंग होते हैं- ऋषि, देवता, छंद, बीज, कीलक।
हरेक मंत्र के ऋषि होते हैं। वे मंत्र के द्रष्टा होते हैं, कर्ता नहीं। ऋषयो मंत्रदृष्टारः न तु कर्तारः। गायत्री मंत्र के ऋषि विश्वामित्र हैं।
प्रत्येक मंत्र के देवता होते हैं। जैसे, गायत्री मंत्र के देवता भगवान सूर्य हैं। ॐ नमः शिवाय मंत्र के देवता भगवान शिव हैं। हरि ॐ मंत्र के देवता हरि हैं। गणपत्य मंत्र के देवता भगवान गणपति हैं। ओंकार मंत्र के देवता व्यापक परमात्मा हैं।
प्रत्येक मंत्र का छंद होता है जिससे उच्चारण-विधि का अनुशासन होता है। गायत्री मंत्र का छंद गायत्री है। ओंकार मंत्र का छंद भी गायत्री ही है।
प्रत्येक मंत्र का बीज होता है। यह मंत्र को शक्ति प्रदान करता है।
प्रत्येक मंत्र का कीलक अर्थात् मंत्र की अपनी शक्ति होती है। मंत्र की अपनी शक्ति में चार शक्तियाँ और जुड़ जाती हैं तब वह मंत्र सामर्थ्य उत्पन्न करता है।
मान लो, आपको नेत्रज्योति बढ़ानी है तो ॐ गायत्री मंत्र गायत्री छंद विश्वामित्र ऋषिः सूर्यनारायण देवता अथः नेत्रज्योतिवृद्धि अर्थे जपे विनियोगः। ऐसा कहकर जप आरम्भ करें। अगर बुद्धि बढ़ानी है तो बुद्धि प्रकाश अर्थे जपे विनियोगः। ईश्वर प्राप्ति करनी है तो ईश्वरप्राप्ति अर्थे जपे विनियोगः। ऐसा कहकर जप आरम्भ करें।
कोई भी वैदिक मंत्र ईश्वरप्राप्ति के काम आ सकता है, कष्ट मिटाने या पापनाश के काम भी आ सकता है। वही मंत्र सफलता के रास्ते ले जाने में मदद कर सकता है और आत्म विश्रांति पाने के काम भी आ सकता है। जैसे – आप हरि ॐ तेजी से अर्थात् ह्रस्व जपते हैं तो आपके पाप नष्ट होते हैं, सात्त्विक परमाणु पैदा होते हैं, दीर्घ जपते हैं तो कार्य साफल्य की शक्ति बढ़ती है, प्लुत जपते हैं तो मन परमात्मा में शांत होने लगता है।
थोड़ा कम खाओ और चबा-चबाकर खाओ। प्रातः कालीन सूर्य की किरणों में बैठकर लम्बा श्वास लो, धीरे-धीरे श्वास छोड़ो, फिर रं-रं का जप करो। यह प्रयोग आपका अग्नितत्त्व बढ़ायेगा। आपका पाचनतंत्र ठीक हो जायेगा। अम्ल पित्त गायब हो जायेगा। इससे केवल अम्लपित्त ही मिटेगा या भूख ही बढ़ेगी ऐसी बात नहीं है। इससे आपके पाप-ताप भी मिटेंगे और भगवान आप पर प्रसन्न होंगे।
आप अपने कमरे में बैठकर फोन द्वारा भारत से अमेरिका बात कर सकते हो। जब आप सेल्युलर फोन के बटन दबाते हो तो वह कृत्रिम उपग्रह से जुड़कर अमेरिका में घंटी बजा देता है। यंत्र में इतनी शक्ति है तो मंत्र में तो इससे कई गुना ज्यादा शक्ति है। क्योंकि यंत्र तो मानव के मन ने बनाया है जबकि मंत्र की रचना किसी ऋषि ने भी नहीं की है। मंत्र तो ऋषियों से भी पहले के हैं। उन्होंने मंत्र की अनुभूतियाँ की हैं।
बाह्यरूप से तो मंत्र के केवल अक्षर दिखते हैं किंतु वे स्थूल दुनिया से परे, सूर्य और चंद्रलोक से भी परे लोक-लोकांतर को चीरकर ब्रह्म-परमात्मा से एकाकार कराने का सामर्थ्य रखते हैं।
मंत्रविज्ञान में थोड़ा सा ही प्रवेश पाकर विदेशी लोग दंग रह गये हैं। मंत्रों में गुप्त अर्थ और उनकी शक्ति होती है, जो अभ्यासकर्ता को दिव्य शक्तियों के पुंज के साथ एकाकार करा देती है।
साधक बतायी गयी विधि के अनुसार जप करता है तो थोड़े ही दिनों में उसकी सुषुप्त शक्ति जाग्रत होने लगती है। फिर शरीर में कभी-कभी कंपन होने लगता है, कभी हास्य उभरने लगता है, कभी रूदन होने लगता है, किंतु वह रुदन दुःख का नहीं होता, विरह का होता है। वह हास्य संसारी नहीं होता, आत्मसुख का होता है।
कभी-कभी ऐसे नृत्य होने लगेंगे जो आपने कभी देखे-सुने ही न हों, कभी ऐसे गीत उभरेंगे कि आप दंग रह जायेंगे। कभी-कभी ऐसे श्लोक और ऐसे शास्त्रों की बात आपके हृदय से निकलेगी कि आप ताज्जुब करेंगे !
यह अनुभव मंत्रदीक्षा लेते समय भी हो सकता है, दूसरे दिन भी हो सकता है, एक सप्ताह में भी हो सकता है। अगर नहीं होता है तो फिर रोओ कि क्यों नहीं होता? दूसरे सप्ताह में तो होना ही चाहिए।
मंत्रदीक्षा कोई साधारण चीज नहीं है। जिसने मंत्र लिया है और जो नियमित जप करता है उसकी अकाल मृत्यु नहीं हो सकती। उस पर भूत-प्रेत, डाकिनी-शाकिनी का प्रभाव नहीं पड़ सकता। सदगुरु से गुरुमंत्र मिल जाय और उसका पालन करने वाला सत् शिष्य मिल जाय तो काम बन जाय….
अनुक्रम
ॐॐॐॐ
मंत्रजाप का प्रभाव
जपात् सिद्धिः जपात् सिद्धिः जपात् सिद्धिर्न संशयः।
जप में चार बातें आवश्यक हैं- श्रद्धा व तत्परता। संयम। एकाग्रता। शब्दों का गुंथन।
एक है शब्द की व्यवस्था। जैसे- ॐ…. ह्रीं… क्लीं… हुँ…. फट्… ऐं आदि मंत्र हैं। इनका कोई विशेष मतलब नहीं दिखता परंतु वे हमारी सुषुप्त शक्ति को जगाने व हमारे संकल्प को वातावरण में फैलाने में बड़ी मदद करते हैं। जैसे – आप फोन करते हैं तो कृत्रिम उपग्रह प्रणाली में गति होने से अमेरिका में आपके मित्र के घर फोन की घंटी बजती है। इससे भी ज्यादा प्रभाव सूक्ष्म मंत्र का होता है। किंतु मंत्रविज्ञान को जानने वाले गुरु व मंत्र का फायदा उठाने वाला साधक मिले तभी उसकी महिमा का पता लगता है।
एक बार रावण दशरथ के पास गया। उस समय दशरथ अयोध्या में न होकर गंगा के किनारे गये हुए थे। रावण के पास उड़ने की सिद्धि थी अतः वह तुरंत दशरथ के पास पहुँच गया और जाकर देखता है कि दशरथ किनारे पर बैठकर चावल के दानों को एक-एक करके गंगाजी में जोर-से मार रहे हैं। आश्चर्यचकित हो रावण ने पूछाः “हे अयोध्यानरेश ! आप यह क्या कर रहे हैं?”
दशरथः “जंगल में शेर बहुत ज्यादा हो गये हैं। उन्हें मारने के लिए एक-एक शेर के पीछे क्यों घूमूँ? यहाँ से ही उनको यमपुरी पहुँचा रहा हूँ।”
रावण का आश्चर्य और अधिक बढ़ गया। अतः वह जंगल की ओर गया देखा कि किसी कोने से तीर आते हैं, जो फालतू शेर हैं उन्हें लगते हैं और वे मर जाते हैं।
‘श्रीमद् भागवत’ कथा आती है कि परीक्षित को तक्षक ने काटा। यह जानकर जन्मेजय को बड़ा क्रोध आया और वह सोचने लगाः ‘मेरे पिता को मारनेवाले उस अधम सर्प से जब तक मैं वैर न लूँ तब तक मैं पुत्र कैसा।?’
यह सोचकर उसने मंत्रविज्ञान के जानने वालों को एकत्रित करके विचार विमर्श किया और यज्ञ का आयोजन किया। सर्प-सत्र में मंत्रों के प्रभाव से साँप खिंच-खिंचकर आने लगे और उस यज्ञकुण्ड में गिरकर मरने लगे। ऐसा करते-करते बहुत सारे सर्प अग्नि में स्वाहा हो गये किंतु तक्षक नहीं आया। यह देखकर जन्मेजय ने कहाः
“हे ब्राह्मणो ! जिस अधम तक्षक ने मेरे पिता को मार डाला, वह अभी तक क्यों नहीं आया?”
तब ब्राह्मणों ने कहाः “हे राजन् ! तक्षक रूप बदलना जानता है और इन्द्र से उसकी मित्रता है। जब मंत्र के प्रभाव से सब सर्प खिंच-खिंचकर आने लगे तो इस बात का पता लगते ही वह सावधान होकर इन्द्र की शरण में पहुँच गया है और इन्द्र के आसन से लिपटकर बैठ गया है।”
जन्मेजयः “हे भूदेव ! इन्द्रासन समेत वह तक्षक हवनकुण्ड में आ गिरे ऐसा मंत्र क्यों नहीं पढ़ते?”
ब्राह्मणों ने जब जन्मेजय कहने पर तदनुसार मंत्र पढ़ा तो इन्द्रासन डोलने लगा।
कैसा अदभुत सामर्थ्य है मंत्रों में !
इन्द्रासन के डोलने पर इन्द्र को घबराहट हुई कि अब क्या होगा?
वे गये देवगुरु बृहस्पति के पास और उनसे प्रार्थना की। इन्द्र की प्रार्थना सुन कर जन्मेजय के पास बृहस्पति प्रकट हुए और जन्मेजय को समझाकर यज्ञ बंद करवा दिया।
मंत्रोच्चारण, मंत्रो के शब्दों का गुंथन, जापक की श्रद्धा, सदाचार और एकाग्रता… ये सब मंत्र के प्रभाव पर असर करते हैं। यदि जापक की श्रद्धा नहीं है तो मंत्र का प्रभाव इतना नहीं होगा जितना होना चाहिए। श्रद्धा है परंतु मंत्र का गुंथन विपरीत है तो भी विपरीत असर होता है। जैसे – यज्ञ किया कि ‘इन्द्र को मारनेवाला पुत्र पैदा हो’ परंतु संस्कृत में ह्रस्व और दीर्घ की गलती से ‘इन्द्र से मरने वाला पुत्र पैदा हो’ ऐसा बोल दिया गया तो वृत्रासुर पैदा हुआ जो इन्द्र को मार नहीं पाया किंतु स्वयं इन्द्र के हाथों मारा गया। अतः शब्दों का गुंथन सही होना चाहिए। जैसे, फोन पर यदि 011 डायल करना है तो 011 ही डायल करना पड़ेगा। ऐसा नहीं कि 101 कर दिया और यदि ऐसा किया तो गलत हो जायेगा। जैसे, अंक को आगे-पीछे करने से फोन नंबर गलत हो जाता है ऐसे ही मंत्र के गुंथन में शब्दों के आगे-पीछे होने से मंत्र का प्रभाव बदल जाता है।
जापक की श्रद्धा, एकाग्रता और संयम के साथ-साथ मंत्र देने वाले की महत्ता का भी मंत्र पर गहरा प्रभाव पड़ता है। जैसे, किसी बात को चपरासी कहे तो उतना असर नहीं होता किंतु वही बात यदि राष्ट्रपति कह दे तो उसका असर होता है। जैसे, राष्ट्रपति पद का व्यक्ति यदि हस्ताक्षर करता है तो उसका राष्ट्रव्यापी असर होता है, ऐसे ही जिसने आनंदमय कोष से पार आनंदस्वरूप ईश्वर की यात्रा कर ली है ऐसे ब्रह्मज्ञानी सदगुरु द्वारा प्रदत्त मंत्र ब्रह्माण्डव्यापी प्रभाव रखता है। निगुरा आदमी मरने के बाद प्रेतयोनि से सहज में छुटकारा नहीं पाता परंतु जिन्होंने ब्रह्मज्ञानी गुरुओं से मंत्र ले रखा है उन्हें प्रेतयोनि में भटकना नहीं पड़ता। जैसे, पुण्य और पाप मरने के बाद भी पीछा नहीं छोड़ते, ऐसे ही ब्रह्मवेत्ता द्वारा प्रदत्त गुरुमंत्र भी साधक का पीछा नहीं छोड़ता। जैसे – कबीर जी को उनके गुरु से ‘राम-राम’ मंत्र मिला। ‘राम-राम’ मंत्र तो रास्ते जाते लोग भी दे सकते हैं किंतु उसका इतना असर नहीं होता परंतु पूज्यपाद रामानंद स्वामी ने जब कबीर जी को ‘राम-राम’ मंत्र दिया तो कबीर जी कितनी ऊँचाई पर पहुँच गये, दुनिया जानती है। तुलसीदास जी ने कहा हैः
मंत्रजाप मम दृढ़ बिस्वासा। पंचम भजन सो वेद प्रकासा।।
(श्रीरामचरित. अर. कां. 35.1)
अभी डॉ. लिवर लिजेरिया व दूसरे चिकित्सक कहते हैं कि ह्रीं, हरि, ॐ आदि मंत्रों के उच्चारण से शरीर के विभिन्न भागों पर भिन्न-भिन्न असर पड़ता है। डॉ. लिवर लिजेरिया ने तो 17 वर्षों के अनुभव के पश्चात् यह खोजा कि ‘हरि’ के साथ अगर ‘ॐ’ शब्द को मिलाकर उच्चारण किया जाये तो पाँचों ज्ञानेन्द्रियों पर उसका अच्छा प्रभाव पड़ता है वह निःसंतान व्यक्ति को मंत्र के बल से संतान प्राप्त हो सकती है जबकि हमारे भारत के ऋषि-मुनियों ने इससे भी अधिक जानकारी हजारों-लाखों वर्ष पहले शास्त्रों में वर्णित कर दी थी। हजारों वर्ष पूर्व हमारे साधु-संत जो आसानी से कर सकते थे उस बात पर विज्ञान अभी कुछ-कुछ खोज रहा है।
आकृति के साथ शब्द का प्राकृतिक व मनोवैज्ञानिक सम्बन्ध है। मैं कह दूँ ‘रावण’ तो आपके चित्त व मन में रावण की आकृति और संस्कार उभर आयेंगे और मैं कह दूँ ‘लाल बहादुर शास्त्री’ तो नाटा सा कद व ईमानदारी मे दृढ़ ऐसे नेता की आकृति और भाव आ जायेंगे।
डॉ. लिवर लिजेरिया ने मंत्र के प्रभाव की खोज केवल भौतिक या स्थूल शरीर तक ही की है जबकि आज से हजारों वर्ष पूर्व हमारे ऋषियों ने मंत्र के प्रभाव को केवल स्थूल शरीर तक ही नहीं वरन् इससे भी आगे कहा है। यह भौतिक शरीर अन्नमय है। इसके अन्दर चार शरीर और भी हैं- प्राणमय। मनोमय। विज्ञानमय। आनंदमय। इन सबको चेतना देनेवाले चैतन्यस्वरूप की भी खोज कर ली है। अगर प्राणमय शरीर निकल जाता है तो अन्नमय शरीर मुर्दा हो जाता है। प्राणमय शरीर का भी संचालन करने वाला मनोमय शरीर है। मन के संकल्प-विकल्प के आधार पर ही प्राणमय शरीर क्रिया करता है। मनोमय शरीर के भीतर विज्ञानमय शरीर है। पाँच ज्ञानेन्द्रियाँ और बुद्धि – इसको ‘विज्ञानमय शरीर’ बोलते हैं। मनोमय शरीर को सत्ता यही विज्ञानमय शरीर देता है। बुद्धि ने निर्णय किया कि मुझे चिकित्सक बनना है। मन उसी विषय में चला, हाथ-पैर उसी विषय में चले और आप बन गये चिकित्सक। परंतु इस विज्ञानमय कोष से भी गहराई में ‘आनंदमय कोष’ है। कोई भी कार्य हम क्यों करते हैं? इसलिए कि हमें और हमारे मित्रों को आनंद मिले। दाता दान करता है तो भी आनंद के लिए करता है। भगवान के आगे हम रोते हैं तो भी आनंद के लिए और हँसते हैं तो भी आनंद के लिए। जो भी चेष्टा करते हैं आनंद के लिए करते हैं क्योंकि परमात्मा आनंदस्वरूप है और उसके निकट का जो कोष है उसे ‘आनंदमय कोष’ कहते हैं। अतः जो भी आनंद आता है वह परमात्मा का आनंद है। परमात्मा आनंदस्वरूप है और मंत्र उस परमात्मा तक के इन पाँचों कोषों पर प्रभाव डालता है। भगवन्नाम के जप से पाँचों कोषों में, समस्त नाड़ियों में व सातों केन्द्रों में बड़ा सात्त्विक असर पड़ता है। मंत्रजाप की महत्ता जानकर ही 500 वर्ष पहले नानकजी ने कहाः
भयनाशन दुर्मति हरण कलि में हरि को नाम।
निशदिन नानक जो जपे सफल होवहिं सब काम।।
तुलसीदासजी ने तो यहाँ तक कह दिया हैः
कृतजुग त्रेताँ द्वापर पूजा मख अरु जोग।
जो गति होइ सो कलि हरि नाम ते पावहिं लोग।।
‘सतयुग, त्रेता और द्वापर में जो गति पूजा, यज्ञ और योग से प्राप्त होती है, वही गति कलियुग में लोग केवल भगवन्नाम के गुणगान से पा जाते हैं।’
(श्रीरामचरित. उ. का. 102 ख)
कलिजुग केवल हरि गुन गाहा।
गावत नर पावहिं भव थाहा।।
‘कलियुग में तो केवल श्रीहरि के गुणगाथाओं का गान करने से ही मनुष्य भवसागर की थाह पा जाते हैं।’
अनुक्रम
(श्रीरामचरित. उ. का. 102.2)
ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Bhagvan Naam Japa Mahima

Download

Note: Guru Mantra (Mantra given by Sath Guru during Mantra Diksha) is a connection between SathGuru and Shishya (Disciple) and should not be revelead to anyone ever.  Below are some useful powerful mantras that help Sadhaks in various way.

Beeja Mantra

for Memory, Intellect and in Coma

‘ऐं’ बीजमंत्र मस्तिषक को प्रभावित करता है। इससे बुद्धि, धारणाशक्ति व स्मृति का आश्चार्यकारक विकास होता है।
‘ऐं’ बीजमंत्र मस्तिषक को प्रभावित करता है। इससे बुद्धि, धारणाशक्ति व स्मृति का आश्चार्यकारक विकास होता है। इसके विधिवत जप से कोमा में गये हुए रुग्ण भी होश में आ जाते हैं। अनेक रुग्णों ने इसका प्रत्यक्ष अनुभव किया है।

for Liver, Brain, Hepatitis-B, Bronchitis

‘खं’ बीजमंत्र लीवर, हृदय व मस्तिषक को शक्ति प्रदान करता है। लीवर के रोगों में इस मंत्र की माला करने से अवश्य लाभ मिलता है। ‘हिपेटायटिस-बी’ जैसे असाध्य माने गये रोग भी इस मंत्र के प्रभाव से ठीक होते देखे गये हैं ब्रोन्कायटिस में भी ‘खं’ मंत्र बहुत लाभ पहुँचाता है।

Monthly Periodic Problems of Women Cured with Vedic Mantra Power

‘थं’ मंत्र मासिक धर्म को सुनिश्चित करता है। इससे अनियमित तथा अधिक मासिक स्राव में राहत मिलती है। महिलाएँ इन तकलीफों से छुटकारा पाने के लिए हारमोन्स की जो गोलियाँ लेती हैं, वे होने वाली संतान में विकृति तथा गर्भाशय के अनेक विकार उत्पन्न करती हैं। उनके लिए भगवान का प्रसाद है यह ‘थं’ बीजमंत्र।

Health Mantra – How to get Healthy –

स्वास्थ्यप्राप्ति के लिए सिर पर हाथ रखकर मंत्र का 108 बार उच्चारण करें।
अच्युतानन्त गोविन्द नामोचारणभेषजात्।
नश्यन्ति सकला रोगाः सत्यं सत्यं वदाम्यहम्।।
हे अच्युत! हे अनन्त! हे गोविन्द! – इस नामोच्चारणरूप औषध से तमाम रोग नष्ट हो जाते हैं, यह मैं सत्य कहता हूँ…… सत्य कहता हूँ।

Brahmcharya Raksha Mantra

ॐ अर्यमायै नमः |

Om Aryamaayai Namah |
Japa this mantra whenever anti-brahmcharya thoughts comes in mind, Do japa for 21 times before going to sleep to avoid bad dreams.

A Mantra useful in celibacy

Take some milk in a cup. While gazing at the milk, repeat the following mantra twenty-one times and thereafter drink the milk. This is an excellent aid to Brahmacharya. This Mantra is worth remembering by heart.

ॐ नमो भगवते महाबले पराक्रमाय मनोभिलाषितमं मनः स्तम्भ कुरु कुरु स्वाहा |

Om namo bhagwate mahabale parakramaay manobhilashitam manah stambh kuru kuru swaha |

Health Protection Mantra

ॐ हंसं हंसः

Om hansam hansaha

रोज सुबह-शाम श्रद्धापूर्वक इस मंत्र की १-१ माला करने से शीघ्रता से स्वास्थ्य लाभ होता है


बीजमन्त्रों से स्वास्थ्य-सुरक्षा –
Param Pujya Sant Shri Asaram Ji Bapu


कं -मृत्यु के भय का नाश, त्वचारोग व रक्त विकृति में।

Relieves one from the fear of death; is useful in skin diseases and blood disorders.


ह्रीं -मधुमेह, हृदय की धड़कन में।

Is beneficial in diabetes mellitus and palpitation.


घं – स्वपनदोष व प्रदररोग में।

Helps in nocturnal emissions and leucorrhoea.


भं -बुखार दूर करने के लिए।

Relief from fever.


क्लीं -पागलपन में।

Is useful in mental disorders.


सं -बवासीर मिटाने के लिए।

– Cures piles.


वं -भूख-प्यास रोकने के लिए।

Prevents hunger and thirst.


लं -थकान दूर करने के लिए।

Relieves fatigue and exhaustion.

for Marriage only for females

जय जय गिरिवर राज किशोरी, जय महेश मुख चंद्र चकोरी

jai jai girivar raaj kishori, jai mahesh mukh chandra chakori

Nirogi va sampann hone ke Liye Mantra [ Health Mantra]

निरोगी व श्री सम्पन्न होने के लिये


ॐ हुं विष्णवे नमः ।


निरोगी व श्री सम्पन्न होने के लिये इस मन्त्र की एक माला रोज जप करें, तो आरोग्यता और सम्पदा आती हैं

For accident-free Journey

ॐ हौं जूँ सः | ॐ भूर्भुवः स्वः | ॐ त्रयम्बकं यजामहे सुगंधिं पुष्टिवर्धनम् उर्व्वारुकमिव बंधनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात ॐ | स्वः भुवः भूः ॐ | सः जूँ हौं ॐ |

om haum joom saha | om bhoorbhuvaha svaha | om trayambakam yajaamahe sugandhim pushtivardhnam urvvarukamiva bandhanaanmrityormuksheeya maamrataat om | svaha bhuvaha bhooh om | saha joom haum om |
Chant this Mahamrityunjay mantra once before starting your journey.

For problem-free Journey

ॐ नमो भगवते वासुदेवाय ।

om namo bhagvate vaasudevaay
Chant one mala of above mantra before starting your journey.

For Job,Marriage related problems

ॐ घं काली कालीकायै नमः |

Om gham kaalee kaaleekaayai namah |

Japa this mantra to remove hurdles in marriage, job or other important occasions.

For Court-cases related problems

पवनतनय बल पवन समाना |
बुद्धि विवेक विज्ञान निधाना ||

pavantanaya bal pavan samaana |
buddhi vivek vigyaan nidhaana ||
Do one mala daily of above mantra to get true results of court-cases. Keep your court related files in North-East direction not locked in Almirah.Keep the file in lotus feet of your beloved Ishta.

Blow away the Impediments

‘tam’ (टं)
is a beej mantra, representing chandradeva, the presiding deity of the Moon. The japa of this mantra is just enough to do away with the sudden impediment inflicting your life.
Write ‘tam’(टं) on a piece of ‘Bhojpatra and insert it into an amulet. Then put this amulet on your right hand. This will remove all sorts of obstacles out of your way.
Just wear an amulet having in it the mantra, ‘tam’(टं)written eleven times on a piece of paper. This helps in cases of deficiency of calcium, poor lactation among women and also comes in handy in soothing a fretting child.

Mantra for Sound Sleep

शुद्धे शुद्धे महायोगिनी महानिद्रे स्वाहा ।

shuddhe shuddhe mahaayogini mahaanidre swaahaa

The japa of this mantra before going to bed ends the harrowing streak of your sleepless nights and ushers a propitious era of sound and refreshing sleep into your life.

Digestion Mantra

अगस्त्यम कुम्भकर्णं च शनिंच बडवानलं |
आहार परिपाकार्थ स्मरेद भीमं च पंचमं ||

Agastyam kumbhakarnam cha shanim cha badavaanalam
Aahaara paripaakaartham smared bhimam cha panchakam
Chant this mantra while caressing your stomach with your left hand in the anti clock wise direction after having your meal. It helps in quick digestion.

Mantra to cure all types of diseases

Dharmarajavrata (mantra mahodadhi) Eliminates all diseases:

Even if you are suffering from incurable diseases wake up early in the morning,


ॐ क्रौं ह्रीं आं वैवस्वताय धर्मराजाय भक्तानुग्रहक्रते नमः ।

aum kraum hrim a am vaivasvataya dharmarajaya bhaktanugrahakrite namah

Do constant jap of this mantra. It will help cure all your Diseases and deliver you from all sins
and afflictions.

Mantra to attain Wealth

People practise several methods to acquire Lakshmi (wealth) at the time of Dipawali. Following is a very simple 3-day method for this purpose:

Starting from the day of Diwali till the day of Bhai Dooj (for 3 days), light Dhoop, Deep & Agarbatti in a clean room early in the morning, wear yellow colored clothes, put the Tilak of Kesar (saffron) on the forehead, then do 2 mala of the following mantra on a mala with beeds of Sfatik.

ॐ नमः भाग्यलक्ष्मी च विद्महे |
अष्टलक्ष्मी च धीमहि | तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात |

om namah bhagyalakshmi cha vidmahe|
ashtalakshmi cha dheemahi | tanno lakshmi prachodayaat |

It is more beneficial to do japa by concentrating on the picture of Lakshmi, Guru or Ishtha (Tratak).
Deepawali is the birthday of Lakshmi ji. Lakshmi ji had appeared at the time of the Samudra-Manthan from the Kshir-Sagar. Therefore Lakshmi ji bestows her blessings to the person who does this sadhna with the desire that Laksmi stays in his/her home, poverty gets removed & one is able to earn daily bread & butter easily.

Mantra To Elleviate Sudden Trouble

Chanting this mantra 108 times everyday, elleviates one from miseries and sudden trouble.

ॐ रां रां रां रां रां रां रां रां मम् कष्टं स्वाहा

Aum raan raan raan raan raan raan raan raan mam kashtam svaahaa
we can replace मम् (mam) with name of person, whose problems have to be removed.
Note:- in above mantra raan is for 8 times,

For Victory Vijaya

Chant Aditya Hriduya 3 Times facing east direction.

‘इसलिए तुम एकाग्रचित होकर इन देवाधिदेव जगदीश्वर की पूजा करो। इस आदित्य हृदय का तीन बार जप करने से तुम युद्ध में विजय पाओगे।’

Maha Mrityunjaya Mantra Jaap Vidhi


JAI GURU DEV

Mantra mp3 from Ashram by Sri sureshanandJi mukhya Shishya Of Param Pujya Gurudev sant Shri AsaramJi Bapu


Sri Hanuman Ji Mantra Mp3 by Sri SureshanandJi

Karja Mukti or Dept removal Mantra and Vidhi


Satya Raksha Mantra for Court Case

Sarpa raksha Mantra

Surya argya Mantra

Grihastha shanti for Peace & Prosperity in household


Garbha Raksha Shri krishna Mantra & Vidhi from Ashram


Kaal sarpa Yog ( Removal ) Nivaaran Yukti & Mantra

Solution for Marriage Problems

Solution for problems After Marriage

Solution for Job & buisness Problems

Solution for Buisness Problems for Shops & offices

Surya Gayatri Mantra
JAI GURU DEV
श्रद्धापूर्वक जप से अनुपम लाभ
श्रद्धा बहुत ऊँची चीज है। विश्वास और श्रद्धा का मूल्यांकन करना संभव ही नहीं है। जैसे अप्रिय शब्दों से अशांति और दुःख पैदा होता है ऐसे ही श्रद्धा और विश्वास से अशांति शांति में बदल जाती है, निराशा आशा में बदल जाती है, क्रोध क्षमा में बदल जाता है, मोह समता में बदल जाता है, लोभ संतोष में बदल जाता और काम राम में बदल जाता है। श्रद्धा और विश्वास के बल से और भी कई रासायनिक परिवर्तन होते हैं। श्रद्धा के बल से शरीर का तनाव शांत हो जाता है, मन संदेह रहित हो जाता है, बुद्धि में दुगनी-तिगुनी योग्यता आती है और अज्ञान की परतें हट जाती हैं।
श्रद्धापूर्वाः सर्वधर्मा…. सभी धर्मों में – चाहे वह हिन्दू धर्म हो चाहे इसलाम धर्म, या अन्य कोई भी धर्म हो, उसमें श्रद्धा की आवश्यकता है। ईश्वर, औषधि, मूर्ति, तीर्थ एवं मंत्र में श्रद्धा होगी तो फल मिलेगा।
यदि कोई कहे कि ‘मेरा मंत्र छोटा है…’ तो यह सही नहीं है बल्कि उसकी श्रद्धा ही छोटी है। वह भूल जाता है कि छोटा सा मच्छर, एक छोटी सी चींटी हाथी को मार सकती है। श्रद्धा की छोटी-सी चिंगारी जन्म-जन्मांतर के पाप-ताप को, अज्ञान को हटाकर हमारे हृदय में ज्ञान, आनंद, शांति देकर, ईश्वर का नूर चमका कर ईश्वर के साथ एकाकार करा देती है।यह श्रद्धा देवी का ही तो चमत्कार है !
अष्टावक्र मुनि राजा जनक से कहते हैं- श्रद्धस्व तात श्रद्धस्व … ‘श्रद्धा कर, तात ! श्रद्धा कर।’ श्रीकृष्ण अर्जुन से कहते हैं- श्रद्धावाँल्लभते ज्ञानं तत्परः संयतेन्द्रियः (गीताः 4.39) ‘जितेन्द्रिय, साधनापरायण और श्रद्धावान मनुष्य ज्ञान को प्राप्त होता है।’ श्रद्धावान उस आत्मा-परमात्मा को पा लेता है।
एक पायलट पर भी हम जैसों को श्रद्धा रखनी पड़ती है। संसार का कुछ लेना-देना नहीं था, फिर भी अमेरिका, युरोप, अफ्रीका, जर्मनी, हाँगकाँग, दुबई – जहाँ भी गये हमको पायलट पर श्रद्धा करनी पड़ी। हमारी सब चीजें और हमारी जान, सब पायलट के हवाले……. तब हम यहाँ से उठाकर दुबई पहुँचाये गये, दुबई उठाकर लंदन, लंदन से उठाकर अमेरिका पहुँचाये गये….
यहाँ से अमेरिका पहुँचाने वाले पर भी श्रद्धा रखनी पड़ती है तो जो 84 लाख जन्मों से उठाकर ईश्वर के साथ एकाकार करने वाले शास्त्र, संत और मंत्र है उन पर श्रद्धा नहीं करेंगे तो किस पर करेंगे भाई साहब? इसलिए मंत्र पर अडिग श्रद्धा होनी चाहिए।

हम अपने कर्मों को तोलें तो दिल धड़कता है। किंतु तेरी करूणा पर, तेरी कृपा पर हमें विश्वास है। हम अपने कर्मों के बल से नहीं किंतु तेरी करूणा के भरोसे, तेरे औदार्य के भरोसे तुझसे
भगवान अवतार लेकर आते हैं तब भी गुरु के द्वार जाते हैं। जब सीताजी को लौटाने के विषय में कई संदेश भेजने पर भी रावण नहीं माना, युद्ध निश्चित हो गया और लंका पर चढ़ाई करनी थी, तब अगस्त्य ऋषि ने भगवान श्रीरामचंद्रजी से कहाः

“राम ! रावण मायावी दैत्य है। तुम सर्वसमर्थ हो फिर भी मैं तुम्हें आदित्य-हृदय मंत्र की साधना-विधि बताता हूँ। उसका प्रयोग करोगे तुम विजयी हो जाओगे।”
अगस्त्य ऋषि से श्रीरामजी ने आदित्य-हृदय मंत्र तथा उसकी साधना-विधि जानी और मायावी रावण के साथ युद्ध में विजयी हुए।

मंत्र में ऐसी अथाह शक्ति होती है।
मंत्रों के अर्थ कोई विशेष विस्तारवाले नहीं होते और कई मंत्रों के अर्थ समझना कोई जरूरी भी नहीं होता। उनकी ध्वनि से ही वातावरण में बहुत प्रभाव पड़ जाता है।
जैसे – आपको जोड़ों का दर्द है, वायु की तकलीफ है तो शिवरात्री की रात में ‘बं-बं’ मंत्र का सवा लाख जप करें। आपके घुटनों का दर्द, आपकी वायु-सम्बन्धी तकलीफें दूर हो जायेंगी।
ऐसे ही अलग-अलग मंत्रों की ध्वनि का अलग-अलग प्रभाव पड़ता है।

Ishta Siddhi

Download

Narsimha Maha Mantra

जैसे कोई थके हारे हैं, भयभीत हैं अथवा आशंकित है कि पता नहीं कब क्या हो जाये? उनको नृसिंह मंत्र जपना चाहिए ताकि उन पर मुसीबतें कभी न मँडरायें। फिर उन पर मुसीबत आती हुई दिखेगी परंतु मंत्रजाप के प्रभाव से यह यों ही चली जायेगी, जापक का कुछ भी न बिगाड़ पायेगी। अगर जान-माल को हानि पहुँचने का भय या आशंका है तो डरने की कोई जरूरत नहीं है। नृसिंह मंत्र का जप करें। इस मंत्र की रोज एक माला कर लें।

नृसिंह मंत्र इस प्रकार हैः

ॐ उग्र वीरं महा विष्णुं ज्वलन्तं सर्वतोमुखम्।
नृसिंह भीषणं भद्रं मृत्यु मृत्युं नमाम्यहम्।।

तुम्हारे आगे इतनी बड़ी मुसीबत नहीं है जितनी प्रहलाद के आगे थी। प्रह्लाद इकलौता बेटा था हिरण्यकशिपु का। हिरण्यकशिपु और उसके सारे सैनिक एक तरफ और प्रह्लाद एक तरफ। किंतु भगवन्नाम जप के प्रभाव से प्रह्लाद विजयी हुआ, होलिका जल गयी – यह इतिहास सभी जानते हैं।
भगवान के नाम में, मंत्र में अदभुत समर्थ्य होता है किंतु उसका लाभ तभी मिल पाता है जब उसका जप श्रद्धा-विश्वासपूर्वक किया जाय…..
अनुक्रम
ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

पवित्र ग्रंथ मंत्र साधना एवं अनुष्ठान विधि
A Sacred book on  Mantra Sadhana.
Mantra Japa Mahima Evam Anushthaan Vidhi

Download

All ebooks from http://www.ashram.org by GuruJi
Param Pujya Sant Shri AsaramJi Bapu

सत्वशुद्धिकरं नाम नाम ज्ञानप्रदं स्मृतम्।
मुमुक्षाणां मुक्तिप्रदं सर्वकामदम्।।
सचमुच, हरि का नाम मनुष्यों की शुद्धि करने वाला, ज्ञान प्रदान करने वाला, मुमुक्षुओं को मुक्ति देने वाला और इच्छुकों की सर्व मनोकामना पूर्ण करने वाला है।